Saturday, July 29, 2017

जिंदगी जीना सिखाते शिव के पाँच सिद्धान्त




जिंदगी की आपाधापी में हम विलासिता के सामान जुटाने और एक दूसरे से आगे निकलने के चक्कर में कभी ये सोच ही नहीं पाते कि हम किस राह पर चल रहे हैं। हमारा कर्म सही है या नहीं। हम जो काम कर रहे हैं हमारा ज़मीर उसकी गवाही देता है या नहीं।
आगे पढ़ने के लिए दिए गए लिंक पर क्लिक करें -
http://tz.ucweb.com/7_27sRM

No comments:

Post a Comment

जरा खेलने तो दो मुझे

राजू आज भी अपने कमरे में सर पकड़ कर बैठा है, शायद आज भी स्कूल नहीं जा पाएगा। इस महीने यह चौथा दिन है ऐसा कि वह स्कूल नहीं जा रहा है। ...